एमसी से वशीकरण

एमसी से वशीकरण
एमसी से वशीकरण

एमसी से वशीकरण

एमसी से वशीकरण, प्रत्येक स्त्री के लिए एमसी अर्थात मासिक धर्म यानी कि माहवारी उसके जीवन के काफी महत्वपूर्ण समय में से एक होता है। इसका अनुभव उसे शरीर के संरचनात्मक परिवर्तन, कामेच्छा यानी यौनाचार की कामना और भावनात्मक विचारों से भरा होता है।

यह उसके भरपूर यौवन और एक संपूर्ण औरत होने का एहसास करवाता है। हमारा समाज भले ही इस बारे में खुलकर बातें नहीं करता है, लेकिन इस दौरान योनी से निकलने वाले बेकार रक्त की बूंदों में अद्भूत श्क्तियां भी छिपी होती हैं। इसकी बदौलत एक औरत चाहे तो अपनी महत्वाकांक्षाएं पूर्ण कर सकती है।

एमसी से वशीकरण
एमसी से वशीकरण

तंत्र और मंत्र विद्या के अनुसार इससे किसी व्यक्ति का वशीकरण किया जा सकता है। इसका प्रयोग सदियों से किया जाता रहा है। स्त्री-पुरुष चाहे कितनी भी आधुनिकता से युक्त जीवनशैली क्यों न व्यतीत कर रहे हों, आधुनिक काल में भी एमसी से वशीकरण किया जा सकता है। 

पति या प्रेमी का वशीकरण

यदि कोई स्त्री चाहती है कि उसका पति या प्रेमी हमेशा उसकी वश में बना रहे और उसकी कामना को पूर्ण करता रहे, तो इसके लिए उसे मासिक धर्म के साथ एक नुस्खे का प्रयोग करना चाहिए। सबसे पहले पति या प्रेमी की जन्म कुंडली के द्वारा उसके जन्म स्थान, जन्म का समय और तिथि का पता करें।

इसमें ज्योतिष की मदद लें। साथ ही कुंडली के वैवाहिक सुख देने वाले सातवें स्थान का विश्लेषण पर ध्यान दें। यदि उसमें राहु हो, तो उससे दांपत्य जीवन में आई बाधाओं को दूर करने के लिए वशीकरण का उपाय करें। 

यह काम वैसे तो कुछ साधारण टोटके से भी हो सकता है, लेकिन जब इससे भी बात नहीं बने तो मासिक धर्म के दौरान अपने पति या प्रेमी के पास आधी रात को जाएं।

उसे जगाए बगैर उसके सिर के  ऊपर चोटी से थोड़ा बाल काट लें। यह काम पति के साथ तो आसानी से संभव है, लेकिन प्रेमी के साथ ऐसा करने के लिए किसी भी समय एकांत स्थान को चुनें और गले मिलने आदि के बहाने से चोटी का बाल काट लें।

उसके साथ माहवारी के रक्त की कुछ बुंदों को मिलाएं और सूर्योदय से पहले स्नान से पहले जलाकर पांव से कुचल दें। उसके राख को पानी से बहा दें या किसी निर्जन स्थान पर फेंक दें। इस प्रयोग के बाद दांपत्य जीवन या प्रेम-संबंध की नीरसता दूर होती है। प्रेमी या पति का सम्मोन बढ़ जाता है।

मासिक धर्म के कपड़े

पुरुष को वश में करने के लिए औरत के पास जो एक वस्तु उपलब्ध है उसका केवल वही प्रयोग कर सकती है। वह है मसिक धर्म के दौरान पहने गए अंतरवस्त्र या दूसरे कपड़े। इसके प्रयोग से जीवन को सुखमय बनाया जा सकता है।

मासिक धर्म के दौरान या शनिवार या शुक्रबार की अर्धरात्री में इस कपड़े को लेकर प्रातः अपने इष्ट देव का स्मरण करते हुए उसे धूप-दीप दिखाकर जला दें। इस दौरान एक मंत्र का 108 बार जाप करें। ध्यान रहे जाप की समाप्ति तक कपड़ा पूरी तरह से जल जाए। उसकी राख को सुरक्षित रख लें। जाप मंत्र हैः- 

ऊँ क्रीं क्लां क्रोम भस्मे स्वाहाः!! यहां क्रोम की जगह स्त्री अपना नाम उच्चारित करें। अगले रोज बचे राख को किसी बहाने से पति के सिर पर छिड़क दें।

    • जिस किसी का वशीकरण करना हो उसकी एक तस्वीर लें और उसे मासिक धर्म के दौरान इस्तेमाल किए गए रात्री के समय कपड़े में लपेट कर रख दें। एमसी की शु़िद्ध के बाद उस कपड़े को गड्ढा खोदकर दबा दें। इस उपाय का तुरंत असर होगा और वह व्यक्ति मोहित होकर हर कहा मानने को तत्पर रहेगा।
    • केला और गोरोचरण का मिलाकर एक लेप बनाएं। उसमें मासिक धर्म के कपड़े में लगे रक्त की कुछ बूंदें मिला दें। इस तरह से तैयार लेप एमसी के बाद स्नान के बाद बिंदी की जगह पर तिलक लगाएं। उसके बाद पति के सामने जाएं और उसका एक तिलक उसे भी लगा दें। इसका वशीकरण में तेजी से असर होता है। यह प्रयोग प्रेमी को वश में करने के लिए भी किया जा सकता है। तिलक लगाते समय नीचे दिए गए मंत्र का सात बार उच्चारण करें। मंत्र हैः- ऊँ अमुक वश्यं कुरु कुरु स्वाहा!! अमुक की जगह व्यक्ति का नाम लें। 

मंत्र जाप

 माहवारी के दौरान निकलने वाले रक्त से पति या प्रेमी की तस्वीर के पीछे अनामिका यानी रिंग फिंगर के सहारे उसका नाम लिखें। तस्वीर को हाथ में रखकर नीचे के मंत्र का 221 बार जाप करें। यह काम आधी रात्री के समय करें। जाप का मंत्र है- 

योनि मंत्र शरीरया कुंज्वासिनी कामदा, रजोस्वाला महातेजा कामाशी ध्यातामा सदा!! 

महवारी खत्म होने के बाद उस तस्वीर को हमेशा अपने साथ रखें। यह समझें उसका आपके साथ होने का मतलब है पति का आपके प्रति आकर्षण का बढ़ना।    

कुछ टोटके 

पुरुष को स्त्री के मासिक धर्म के रक्त से वशीभूत करने संबंधी कुछ सरल टोटके भी काफी अचूक असर करते हैं। इसका प्रयोग प्यार वापस पाने और रूठे पति या प्रेमी को मनाने के लिए किया जाता है। वे इस प्रकार हैंः-

    • मासिक धर्म से शुद्ध होने के तुरंत बाद अपनी योनी में चार लौंग को रखें। चार घंटे के बाद उसे निकालकर पीस लें और पति या प्रेमी के पसंद के किसी भोजन में मिलाकर खिला दें। या फिर उसके शरीर के किसी हिस्से पर मसल दें। वह हर बात सहर्ष मानेगा। 
    • यह प्रयोग विशेषकर पति या लिवइन मेें रहने वाले प्रेमी को वश में करने के लिए किया जा सकता है। मासिक धर्म खत्म होने के बाद रविवार के दिन तुलसी के बीज में सहदेई का रस मिलाकर पीस लें। इसे योनि में लेप की तरह लगाकर पति के साथ सहवास करें। उसके बाद पति या प्रेमी की दीवानगी का अनुभव आपको वैसे आनंद से भर देगा, जिसकी आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी।
    • एक टोटका सफेद धतूरे के बीज, पीली सरसो, तुलसी के बीज और लटजीवा के बीज को तिल के तेल मंे मिलाकर पीसने से बने मिश्रण के साथ किया जा सकता है। इसे माहवारी का समय समाप्त होने के बाद योनि में लेप की तरह लगाकर सहवास करने से पुरुष का वशीकरण किया जा सकता है। संभव हो तो इसमें एमसी की कुछ बूंदे भी मिला दें। उसका वशीकरण कुछ समय के लिए नहीं, बल्कि हमेशा के लिए हो जाता है।

लाल कपड़े से वशीकरण

[Total: 1    Average: 5/5]
About वशीकरण विधि 20 Articles
वशीकरण विधि वशीकरण एक आद्यात्मिक कला है जिसको बहुत कठिन आत्मिक तपस्या के बल से प्राप्त किया जाता है. वशीकरण विधि को एक बार प्राप्त कर के आप अपना मनचाहा काम पल भर मे पूरा कर सकते हो.वशीकरण विधि का दुरूपयोग करने से ये विधि काम करना बंद कर देती है, इसलिए धारक को ये सलाह दे जाती है की वो वशीकरण विधि का वही उपयोग करे जहा इसकी वास्तव मे नेक कार्य मे जरुरत हो.किसी भी कार्य के अनुसार वशीकरण की अलग अलग विधि उपयोग मे लायी जाती है. एक वास्तव वशीकरण विधि धारक वो है जो समस्या को समझ के सही वशीकरण विधि का उपयोग करे.